आज कल इन्दु, Aaj Kal Indu Hindi Lyrics

5/5 - (1 vote)

Aaj Kal Indu Hindi Lyrics

एल्बम तू मेरो नसीब
गीत आज कल इन्दु मुखड़ी
भाषा कुमाउनी
गायक ललित मोहन जोशी
गीतकार सुनील गोस्वामी
संगीतकार संजय कुमोला
Aaj Kal Indu Hindi Lyrics

आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

आँखों का सुरमा कानो का झुमका मैकेनी किले बतौछ
बाली उम्र धड़की जवानी मैकेनी किले दिखौछ
आँखों का सुरमा कानो का झुमका मैकेनी किले बतौछ
बाली उम्र धड़की जवानी मैकेनी किले दिखौछ

आज कल इन्दु
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

कब हु प्यारी कब हु न्यारी मैकेनी तू लागुछ
में तेरो नजीका नजीक औ त तू किलै दूर जैंछ
कब हु प्यारी कब हु न्यारी मैकेनी तू लागुछ
में तेरो नजीका नजीक औ त तू किलै दूर जैंछ

आज कल इन्दु
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

देख में तेरी पीछा न छोड़ू में किलै तड़ पोउछ
बात बाटे दे लुकी छुपी में किलै तड़ पोउछ
देख में तेरी पीछा न छोड़ू में किलै तड़ पोउछ
बात बाटे दे लुकी छुपी में किलै तड़ पोउछ

आज कल इन्दु
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

खिल खिल हसड पल पल देखड़ में किलै समझो छ
में तेरी मन की बात समझ गू मैकनी क्या बतो छ
खिल खिल हसड पल पल देखड़ में किलै समझो छ
में तेरी मन की बात समझ गू मैकनी क्या बतो छ

आज कल इन्दु
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
आज कल इन्दु मुखड़ी में तेरी सावन रंग बसी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे
तेरी मुखड़ी का जाल में मेरी रातों की नींद उडी रे

Thankyou……

Leave a Comment