बस एक सनम चाहिए, Bas Ek Sanam Chahiye Hindi Lyrics

Rate this post

Bas Ek Sanam Chahiye Hindi & English Lyrics

Bas Ek Sanam Chahiye Hindi Lyrics :बस एक सनम चाहिए गाना महेश भट्ट द्वारा निर्देशित फिल्म आशिकी का है। गाने को कुमार शानू ने गाया है. गाने का संगीत नदीम-श्रवण द्वारा रचित है और रवि मलिक द्वारा लिखा गया है। फिल्म के कलाकारों में अनु अग्रवाल, राहुल रॉय मुख्य भूमिका में हैं, और संगीत लेबल टी-सीरीज़ का है।

फिल्म आशिकी-1990
गीत बस एक सनम चाहिए
भाषा हिंदी
गायक कुमार शानू
गीतकार रवि मलिक
संगीतकार नदीम-श्रवण
स्टारकास्ट अनु अग्रवाल, राहुल रॉय

 

Bas Ek Sanam Chahiye Hindi Lyrics

Bas Ek Sanam Chahiye Hindi Lyrics


साँसों की ज़रूरत है जैसे
साँसों की ज़रूरत है जैसे
ज़िन्दगी के लिए
बस एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए

जाम की ज़रूरत है जैसे
जाम की ज़रूरत है जैसे
बेखुदी के लिए
हाँ एक सनम चाहिए
आशिकी के लिए
बस एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए

वक़्त के हाथों में सबकी तकदीरें हैं
वक़्त के हाथों में सबकी तकदीरें हैं
आइना झूठा है सच्ची तस्वीरें हैं

जहाँ दर्द है वहीँ गीत है
जहाँ प्यास है वहीँ मीत है
कोई ना जाने मगर
जीने की यही रीत है

साज़ की जरुरत है जैसे
साज़ की जरुरत है जैसे
मोसिक़ी के लिए
बस एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए
हाँ एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए

मंजिलें हासिल हैं फिर भी एक दुरी है
मंजिलें हासिल हैं फिर भी एक दुरी है
बिना हमराही के ज़िन्दगी अधूरी है

मिलेगी कहीं कोई रहगुजर
तन्हा कटेगा कैसे ये सफ़र
मेरे सपने हो जहाँ
ढून्ढूँ मैं ऐसी नज़र

चाँद की जरुरत है जैसे
चाँद की जरुरत है जैसे
चांदनी के लिए
बस एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए

साँसों की ज़रूरत है जैसे
साँसों की ज़रूरत है जैसे
ज़िन्दगी के लिए
बस एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए

बस एक सनम चाहिए
आशिक़ी के लिए
आशिक़ी के लिए
आशिक़ी के लिए
आशिक़ी के लिए

Bas Ek Sanam Chahiye Hindi Lyrics


Sanson ki zaroorat hai jaise
Sanson ki zaroorat hai jaise
Zindagi ke liye
Bas ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye

Jaam ki zaroorat hai jaise
Jaam ki zaroorat hai jaise
Bekhudi ke liye
Haan ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye
Bas ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye

Waqt ke hathon mein sab ki takdire hain
Waqt ke hathon mein sab ki takdire hain
Aaina jhootha hai sachi tasvire hain

Jahan dard hai vahin geet hai
Jahan pyas hai vahin meet hai
Koi na jane magar
Jeene ki yahi reet hai

Saaz ki zaroorat hai jaise
Saaz ki zaroorat hai jaise
Mausiki ke liye
Bas ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye
Haan ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye

Manzile hasil hain phir bhi ek doori hai
Manzile hasil hain phir bhi ek doori hai
Bina humrahi ke zindagi adhuri hai

Milegi kahin koi rehguzar
Tanha katega kaise yeh safar
Mere sapne ho jahan
Dhundu main aisi nazar

Chand ki zaroorat hai jaise
Chand ki zaroorat hai
Jaise chandani ke liye
Bas ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye

Sanson ki zaroorat hai jaise
Sanson ki zaroorat hai jaise
Zindagi ke liye
Bas ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye

Bas ek sanam chahiye
Aashiqui ke liye
Aashiqui ke liye
Aashiqui ke liye
Aashiqui ke liye

Thankyou….

Leave a Comment