भोल जब फिर रात खुलली, Bhol Jab Phir Raat Khul Lee Hindi Lyrics

5/5 - (1 vote)

Bhol Jab Phir Raat Khul Lee Hindi Lyrics

एल्बम छुयाल-2006
गीत भोल जब फिर रात खुलली
भाषा गडवाली
गायक नरेंद्र सिंह नेगी
गीतकार नरेंद्र सिंह नेगी
संगीतकार नरेंद्र सिंह नेगी

 

Bhol Jab Phir Raat Khul Lee Hindi Lyrics

भोल जब फिर रात खुलली
धरती मा नयी पौद जमाली
पुराना डाला खंगारा ह्वेकि
नयी लागुल्युन सारु दयाला
मीत निरौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
मीत निरौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
भोल जब फिर रात खुलली

इखी ये माटॅम जन्म्यु मी
मेरी भी बोटी रै अंग्वाल
मेरी भी बोटी रै अंग्वाल
भारा खैरी का सरिनी मं भी
मी भी हित्युं उन्दरी उकाल
मी भी हित्युं उन्दरी उकाल
डालियुं कु छैल अर बाठों का गारा
डालियुं कु छैल अर बाठों का गारा
मेरा हिटयां की गवै दयाला
मीत नि रौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
भोल जब फिर रात खुलली

बरखा बर्खाली घाम चमकला
सुख दुःख आना जाना राला
सुख दुःख आना जाना राला
खुच्ल्यो मा हंसदा खेल्दा बेटुला
देखदा देखदा ब्वारी हवे जाला
देखदा देखदा ब्वारी हवे जाला
भोल ये फुलमुंडया सासू बानिकी
भोल ये फुलमुंडया सासू बानिकी
नयी नयी ब्वार्युं रुवाला
मीत निरौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
भोल जब फिर रात खुलली

बस्ग्याल रुजू ह्युन्द कौन्पू
मिन भी साईं रुड्युं की मार
मिन भी साईं रुड्युं की मार
मिल भी बरती ऋतू बसंत
मी परे भी ऐए मौल्यार
मी परे भी ऐए मौल्यार
मिन भी के छै आस कई की
मिन भी के छै आस कई की
ये डांडा काँठा छविं लगाला
मीत निरौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
भोल जब फिर रात खुलली

मेरा भी अपडा पर्याँ हर्चिनी
मेला खोलो मा अचन चाकी
मेला खोलो मा अचन चाकी
मी भी रोयुं भाकोरा भाकोरी
आंसू आंख्युं मा रैनी जब तक
आंसू आंख्युं मा रैनी जब तक
कौथिग यानि विरेन राला
कौथिग यानि विरेन राला
नया नया कौथिगेर आला
मीत निरौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
भोल जब फिर रात खुलली

मिल भी सैनी फुल्ल्वा कांडा
गित्वी माला गन्च्यानौ कु
गित्वी माला गन्च्यानौ कु
जन द्वि एकी गीत मिन भी
कई निरुन्दौ हैन्सानाऊ कु
कई निरुन्दौ हैन्सानाऊ कु
हैस्दारा जब बिसरी जाला
हैस्दारा जब बिसरी जाला
रोंदारा रवे रवे की सम्लाना राला
मीत निरौलू मेरा भूलों तुम दगडी ये गीत राला
भोल जब फिर रात खुलली

Thankyou…..

Leave a Comment