ढेबरा हर्च  गीनी, Debaraa Harchi Geni Hindi Lyrics

5/5 - (1 vote)

Debaraa Harchi Geni Hindi Lyrics

एल्बम कैथे खुज्याणी होली-2011
गीत ढेबरा हर्च  गीनी
भाषा गडवाली
गायक नरेंद्र सिंह नेगी
गीतकार नरेंद्र सिंह नेगी
संगीतकार नरेंद्र सिंह नेगी

 

Debaraa Harchi Geni Hindi Lyrics

हे  भुलियुं  हे  घसेनियुं, हे  दिदियुं  हे  पंदेनियुं
हे  काका  तिन  देखियिनी, हे  चुच्यों  कख  फुकनी
ढेबरा हर्च  गीनी मेरा बखरा  हर्च  गीनी
ढेबरा हर्च  गीनी मेरा बखरा  हर्च  गीनी

हे  भुलियुं  हे  घसेनियुं, हे  दिदियुं  हे  पंदेनियुं
हे  काका  तिन  देखियिनी, हे  चुच्यों  कख  फुकनी
ढेबरा हर्च  गीनी मेरा बखरा  हर्च  गीनी
ढेबरा हर्च  गीनी मेरा बखरा  हर्च  गीनी

ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी

खाडू  नरसिंघा  का  नौ  कु, चौ  सिरायु  धर्मं  कौन कु
खाडू  नरसिंघा  का  नौ  कु, चौ  सिरायु  धर्मं  कौन कु
नागराजा खुजाऊ  तुई, तिरु लागोथिया ले  गी  कुई
नागराजा खुजाऊ  तुई, तिरु लागोथिया ले  गी  कुई
पटवारी  जी  की  पूजे  भोल, पटवारी  जी  की  पूजे  भोल
बुग्थिया दिखो हवे  गी  गोल
खुप्री  फूटी  कानी मेरा  ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा 

ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 

जुडी घंडी  घंदुली  याच, पर  पध्वनुई  ढिबरी  काच
जुडी घंडी  घंदुली  याच, पर  पध्वनुई  ढिबरी  काच
मन  दुंदु  बखरू  भागी, पर  जू  बंधियों  चो  स्यु  काजी
मन  दुंदु  बखरू  भागी, पर  जू  बंधियों  चो  स्यु  काजी
खाडू  चौसिंघिया  चो  भरी, खाडू  चौसिंघिया  चो  भरी
चाल  कानी  ली  गी  मारी
चुई  न  लगा  इनी, मेरा बखरा  हर्च  गीनी मेरा 

ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 

हे  भुलियुं  हे  घसेनियुं, हे  दिदियुं  हे  पंदेनियुं
हे  काका तिन  देखियिनी, हे  चुच्यों  कख  फुकनी
ढेबरा हर्च गीनी, मेरा  बखरा  हर्च  गीनी

ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 

दियू  बली  गे धुपनु  हुए  गे, पुजारी  थमाली  लेकी  आए  गे
दियू  बली  गे धुपनु  हुए  गे, पुजारी  थमाली  लेकी  आए  गे
घौर जून  की  बोना  जून, अक्ल  चकली, क्या  जी  कहूँ
घौर जून  की  बोना  जून, अक्ल  चकली, क्या  जी  कहूँ
ऐ भगवती  तू  ख्याल  राखी, भगवती  तू  ख्याल  राखी
मं  लुदगी  तक   नि  चखी
कु  जनि  कु  खाए  गैनी, मेरा  ढेबरा  हर्च  गीनी

ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 

हे  भुलियुं  हे  घसेनियुं, हे  दिदियुं  हे  पंदेनियुं
हे  काका  तिन  देखियिनी, हे  चुच्यों  कख  फुकनी
मेरा  ढेबरा  हर्च  गीनी,  मेरा  बखरा  हर्च  गीनी
मेरा  ढेबरा  हर्च  गीनी,  मेरा  बखरा  हर्च  गीनी

ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 
ढेबरा  हर्च  गीनी मेरा  बखरा  हर्च  गीनी मेरा 

Thankyou…..

Leave a Comment