जनि कुजनी कख बाटीनि, Jani Kujadi Kakh Bateen Hindi Lyrics

Rate this post

Jani Kujadi Kakh Bateen Hindi Lyrics

एल्बम छम्म घुंघरू
गीत झनि कुजनी कख बाटीनि ऐ हवेली सुध तेरी खुद तेरी
गायक नरेंदर सिंह नेगी
गीतकार नरेंदर सिंह नेगी
संगीत नरेंदर सिंह नेगी

 

Jani Kujadi Kakh Bateen Hindi Lyrics
 
जनि कुजनी कख बाटीनि ऐ हवेली सुध तेरी खुद तेरी
घुटी घुटी बाडुली लगे गे सांखी माँ ओ हो हो हो
घुटी घुटी बाडुली लगे गे सांखी माँ
हो हो हो हो
हो हो हो हो आ आ आ
 
जनि कुजनी कख बाटीनि ऐ हवेली सुध तेरी खुद तेरी
दुई बूंद ओन्शि का चुवे गे आंखी माँ ओ हो हो हो
दुई बूंद ओन्शि का चुवे गे आंखी माँ
हो हो हो हो
हो हो हो हो आ आ आ
 
देर सबेर ख्यालू माँ नि आंदी जब तलक
भूक ना तीस ना नींद नि आंदी तब तलक
सर सुरुक लुकी छुपी की देख्दु तेरी झलक
बिन दिख्यान कब ते रोल्ला अलग अलग
जनि कुजनी कख बाटीनि  ऐ हवेली सुध तेरी खुद तेरी
मीठी मीठी सी पीड़ा सरे गे छाती माँ
हो ओ मीठी मीठी सी पीड़ा सरे गे छाती माँ
 

कंदुडी बयान्दीन सुनेंदी चुडयूँ की छाणमन
मन कुयेडी सी भट्कुनु रन्दु बन बन
सौण भादों यु बरखा पानी दणमन
खुद लगी जिकुड़ी माँ भारी रणमन
जनि कुजनी कख बाटीनि ऐ हवेली सुध तेरी खुद तेरी
पोंछी सी कीसवाली लगे गे गात माँ
ओ हो पोंछी सी कीसवाली लगे गे गात माँ 

अभी बतोलू की तभी बतोलू सुच्नु रांदु
मेरा समानी जब तुम अन्द्या सर बिसरी जांदू
चलक बलक उन मी सब तेरी दिख्नु रांदु
दुई बचन भी तेरा गिचन भी सुनन चान्दु
जनि कुजनी कख बाटीनि ऐ हवेली सुध तेरी खुद तेरी
फूल खिल गीन मन की डांडी कांठी माँ ओ हो हो 
फूल खिल गीन मन की डांडी कांठी माँ ओ हो हो
हो हो हो हो हो हो हो हो हो 
हो हो हो हो हो आ आ आ आ 
 
Thankyou…🙏🙏🙏
 

Leave a Comment