जानिब, Janib Hindi Lyrics | Arijit Singh, Sunidhi Chauhan

Rate this post

Janib Hindi & English Lyrics | Arijit Singh, Sunidhi Chauhan

हिंदी में जानिब गीत। दिल्लीवाली ज़ालिम गर्लफ्रेंड 2015 का जानिब गाना। इसमें दिव्येंदु शर्मा, जैकी श्रॉफ, कादर खान, इरा दुबे, प्रधुमन सिंह, प्राची मिश्रा हैं। जानिब के गायक अरिजीत सिंह, सुनिधि चौहान हैं। गाने के बोल राकेश कुमार (कुमार) ने लिखे हैं और संगीत जतिंदर शाह ने दिया है

फिल्म  दिल्लीवाली जालिम गर्लफ्रेन्ड-2015
गीत  जानिब-आये जाए दिल तेरी जानिब
भाषा हिन्दी 
गायक अरिजीत सिंह और सुनिधि चौहान
गीतकार राकेश कुमार(कुमार)
संगीतकार  जितेंदर शाह
स्टारकास्ट दिव्येंदु शर्मा, इरा दुबे ओए प्राची मिश्रा 

Janib Hindi Lyrics


ले लवाण मैं जिन्द विच के
जे मेरा साजन मिल जाए

आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
इश्क़ में तेरे दिल है मुसाफ़िर
भूला धड़कने तेरी खातिर
है ये वास्ते तेरे हाज़िर
इश्क़ में तेरे दिल है मुसाफ़िर
नींदें भी ले गए मुझे यूँ दे गए
बेचैनियां.. बेचैनियां..

आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में
ओ ओ ओ ..आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में

दिन धड़कने लगे हैं तुझ में
सांस लेने लगी हैं रातें
कल तलक लफ्ज़ भी नहीं थे
आज होने लगी हैं बातें

हो.. दिन धड़कने लगे हैं तुझ में
सांस लेने लगी हैं रातें
कल तलक लफ्ज़ भी नहीं थे
आज होने लगी हैं बातें
मेरी तू हो गयी तभी तोह खो गयी
तन्हाईयाँ.. तन्हाईयाँ..

आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में
आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में

बिन तेरे ये जहां अब नहीं
तू है जहां रब है वहीँ
तू है तोह है मैने मेरे
वरना कोई मेरा मतलब नहीं

बिन तेरे ये जहां अब नहीं
तू है जहां रब है वहीँ
तू है तोह है मैने मेरे
वरना कोई मेरा मतलब नहीं
यादों में है तू ही ख्वाबों में है तेरी
परछाइयाँ… परछाइयाँ..

आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में
आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में

आये जाए दिल तेरी जानिब
आना जाना लगता है वाजिब
दिल मुसाफिर है तेरे इश्क़ में

Janib English Lyrics

Le lewa main jind vich ke
Jeh mera sajan mil jaaye

Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Ishq mein tere dil hai musafir
Bhoola dhadkanein teri khatir
Hai yeh vaste tere hazir
Ishq mein tere dil hai musafir
Neendein bhi le gaye
Mujhe yoon de gaye bechainiyan

Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein
Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein

Din dhadakne lage hain tujhme
Saans lene lagi hain raatein
Kal talaq lafz bhi nahi the
Aaj hone lagi hain baatein

Ho din dhadakne lage hain tujhme
Saans lene lagi hain raatein
Kal talaq lafz bhi nahi the
Aaj hone lagi hain baatein
Meri tu ho gai
Tabhi to kho gai tanhaaiyan

Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein
Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein

Bin tere yeh jahan ab nahi
Tu hai jahan Rab hai wahin
Tu hai to hai mayine mere
Varna koyi mera matlab nahi

Bin tere yeh jahan ab nahi
Tu hai jahan Rab hai wahin
Tu hai to hai mayine mere
Varna koyi mera matlab nahi
Yaadon mein hai tu hi
Khwaabon mein hai teri parchhaiyan

Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein
Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein

Aaye jaaye dil teri janib
Aana jana lagta hai waajib
Dil musafir hai tere ishq mein

Thankyou…

Leave a Comment