झगुली कठयाली, Jhaguli Kanthyali Hindi Lyrics

5/5 - (1 vote)

Jhaguli Kanthyali Hindi Lyrics

एल्बम सलाणया सयाली, 2009
गीत झगुली कठयाली घास घसेरी
भाषा गडवाली
गायक नरेंद्र सिंह नेगी, गीतिका असवाल
गीतकार नरेंद्र सिंह नेगी
संगीतकार पम पम सोनी

 

Jhaguli Kanthyali Hindi Lyrics

झगुली कठयाली घास घसेरी झगुली कंठयाली हे
झगुली कठयाली घास घसेरी झगुली कंठयाली हे
तेरो मायदार मिली मै बटा रुणु थो लठयाली हे
तेरो मायदार मिली मै बटा  रुणु थो लठयाली हे

थालू लायु रांशु रे बारया बटवे थालू लायु रांशु लो
थालू लायु रांशु रे बारया बटवे थालू लायु रांशु लो
बाटा घाटा नी रोणु बोल्याण वेकू कु पुंजालो आंशू लो
बाटा घाटा नी रोणु बोल्याण वेकू कु पुंजालो आंशू लो

काटी कुलाई केल घास घसेरी काटी कुलायी केल हे
काटी कुलाई केल घास घसेरी काटी कुलायी केल हे
याखुली क्या कदी यख जा वखी सोनजाड्या का गैल हे
याखुली क्या कदी यख जा वखी सोनजाड्या का गैल हे

पाणी पीनी छालू रे बारया बटवे पाणी पीनी छालू लो
पाणी पीनी छालू रे बारया बटवे पाणी पीनी छालू लो
मैं बाँध पिंजरी को पंछी छोँ रे को खोलालू तालू लो
मैं बाँध पिंजरी को पंछी छोँ रे को खोलालू तालू लो
को खोलालो तालु रे बारया बटवे को खोलालू तालू लो
को खोलालो तालु रे बारया बटवे को खोलालू तालू लो

अटेरी त तेल घास घसेरी अटेरी त तेल हे
अटेरी त तेल घास घसेरी अटेरी त तेल हे
ना झूरझू ना झूरझू तुम द्वी झाणो कु मै मिलोलु मेल हे
ना झूरझू ना झूरझू तुम द्वी झाणो कु मै मिलोलु मेल हे

हाथों का कंगण रे बारया बटवे हाथों का कंगन लो
हाथों का कंगण रे बारया बटवे हाथों का कंगन लो
कनी होण मेल बीच हमारा जाती को बंधण लो
जाती को बंधण लो जाती को बंधण लो

लागुली की झाली घास घसेरी लागुली की झाली हे
लागुली की झाली घास घसेरी लागुली की झाली हे
फुर उड़ी जाण पंछी सी चार दुन्या देखदी राली हे
फुर उड़ी जाण पंछी सी चार दुन्या देखदी राली हे

पीड़ालू का पात रे बारया बटवे पीड़ालू का पात लो
पीड़ालू का पात रे बारया बटवे पीड़ालू का पात लो
निर्देदै निगुणी यीं दुनिया मा में जन नी जात लो
निर्देदै निगुणी यीं दुनिया मा में जन नी जात लो
में जन नी जात रे बारया बटवे में जन नी जात लो
में जन नी जात लो
में जन नी जात लो

Thankyou……

Leave a Comment