कनु लड़िक बिगड़ि, Kanu Ladki Bigdi Hindi Lyrics

2/5 - (1 vote)

Kanu Ladki Bigdi Hindi Lyrics

एल्बम चली भाई मोटार चली-2011
गीत कनु लड़िक बिगड़ि
भाषा गडवाली
गायक नरेंद्र सिंह नेगी,मीना राणा
गीतकार नरेंद्र सिंह नेगी
संगीतकार नरेंद्र सिंह नेगी

 

Kanu Ladki Bigdi Hindi Lyrics
कनु लड़िक बिगड़ि म्यारु ब्वारी कैर की

कनु लड़िक बिगड़ि म्यारु ब्वारी कैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की

कनु लड़िक बिगड़ि म्यारु ब्वारी कैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की

नथुली बेची पढ़ाई-लिखाई
नथुली बेची पढ़ाई-लिखाई
पुंगड़ि बेचि कि मिल ब्वारी काई
सोचि छो ब्वारी को सुख देखुलू
सोचि छो ब्वारी को सुख देखुलू
डोला बटी ब्वारी भयां भी नि आई
नौना दगड़ि चल गै देस बौगा मारि की

कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की

ब्वारी बिचारील यनु जाप काई
ब्वारी बिचारील यनु जाप काई
सैंत्यूं नौनु भी बस माँ नि राई
अब त हमथें पछैण्दू बी नि च
अब त हमथें पछैण्दू बी नि च
अपणु ही सोनु खोटु ह्वै ग्याई
क्या पाई येका बाना मिन ज्यू मारि की

कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की

भलि-बुरी चीज लोगूं की ऐनी
भलि-बुरी चीज लोगूं की ऐनी
मिल दुई दाणि चणो की नि पैनी
हमखुणि सेवा सोंली भी हर्ची
हमखुणि सेवा सोंली भी हर्ची
समधण्यौं थैनि मन्यौडर गैनी
क्या पायी येका बाना कर्ज पात कैरी की

कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की

छौंदी ब्वारी स्यु छों डाँड्यो जाणू
छौंदी ब्वारी स्यु छों डाँड्यो जाणू
डोखरी पुंगड़्यों माँ हडिगयों तुड़ाणु
लैंदा कीदां ये घौर ऐजन्दीन
लैंदा कीदां ये घौर ऐजन्दीन
मि स्यूं छों बांझा भैंसो चराणु
सैन्त्यूँ सम्भाल्यूं लि जान्दिना झाड़ि काट की

कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की

कनु लड़िक बिगड़ म्यारु ब्वारी कैर की
कनु लड़िक बिगड़ि म्यारु ब्वारी कैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
कैमां लगाणींन छुईं अपणि खैर की
छुईं अपणि खैर की
छुईं अपणि खैर की

Thankyou…..

Leave a Comment