मेरे को पहाड़ी मत बोलो , Mere Ko Pahaadee Mat Bolo Hindi Lyrics

Rate this post

Mere Ko Pahaadee Mat Bolo Hindi Lyrics

एल्बम अब कथगा खैल्यो- 2018
गीत मेरे को पहाड़ी मत बोलो 
भाषा गडवाली
गायक नरेंद्र सिंह नेगी और कविलास नेगी
गीतकार नरेंद्र सिंह नेगी

 

Mere Ko Pahaadee Mat Bolo Hindi Lyrics

अपणुं सी दिखेंणु छे रे,लगणुं भल सि मौको छे
अपणुं सी दिखेंणु छे रे, लगणुं भल सि मौको छे
कां बे ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे

के जिला के गौं को छे

गढवालि कुमौं नि हूं ना, भुला, ना भोला-भाला हूं,
गढवालि कुमौं नि हूं, ना भुला, ना भोला-भाला हूं
मेरे को पहाड़ी मत बोलो 

मैं देहरादूण वाला हूं, देहरादून वाला हूं
चुक्खुवालो छे के, धाम्वालो छे के, लच्छीवाला,
जोगी वाला, हर्रावाला छे


कखन ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे

के जिला के गौं को छे?
पहाड़ मैं गया बि नै हूं, देस में ही रहा सदानि , 

पहाड़ में गया बि नै हूं, देस में ही रहा सदानि
कोदा झंगोरा चाक्खा भि ने कबि, पिया नें छुयों का पानि
ना गोर चराये मैंने, ना हौल लगाया,

मैं तो कोठी बंगले वाला हूं
पहाड़ी – पहाड़ी मत बोलो जी देहरादूण वाला हूं, देहरादून वाला हूं

मिय्यांवालो छे के, मोथरोवालो छे के, मेहूंवालो, मूह्ब्बेवाले, मक्कावालो छे
कां बे ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे, के जिला के गौं को छे

दादा परदादा रये होंगे पहाड़ में कभि के जमाना,
दादा परदादा रये होंगे पहाड़ में कभि के जमाना
देस में ही पैदा हुए हम, सच्च माना जाना माना
न पहाडी चीज भाती मुझको, न पहाड़ी बोली आती है ना, बींगता-बच्याता हूं
मेरे को पहाड़ी मत बोलो जी देहरादूण वाला हूं, देहरादून वाला हूं

सुद्दवालो छे के, जस्सोवालो छे के, पित्थूवालो, नत्थूवालो, तुन्नवालो छे
कां बे ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे, के जिला के गौं को छे

कपड़े मेरे साहबों जैसे,भाषा कान्वेन्ट वाली
कपड़े मेरे साहबों जैसे, भाषा कान्वेन्ट वाली
बथाओ अब किस एंगल से लग रहा हूं मैं गढवाली
शहरी हूं गंवार न समझो, जिन्स को सुलार न समझो, मोटरसेकिल वाला हूं
पहाड़ी पहाड़ी मत बोलो जी देहरादून वाला हूं, देहरादून वाला हूं

ब्राह्मणवालो छे के, बंजारावालो छे के, बालावाला, भाऊवाला, भनियावालो छे
कखन ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे, के जिला के गौं को छे

रंग भी गोरा चिट्टा मेरा, कद भी लम्बा-ऊंचा है
रंग भी गोरा चिट्टा मेरा, कद भी लम्बा-ऊंचा है
हीरो जैसा लगता हूं, मैने दगड़ियों से पूछा है
पहाड़ी भुला कहके मेरी बेज्जती क्यूं करते हो, मैं भौत इज्जत वाला हूं
मेरे को पहाड़ी मत बोलो जी देहरादूण वाला हूं, देहरादूण वाला हूं

सुन्दरवालो छे के, बनियावालो छे के, आमवाला, जामुनवाला, डालनवालो छे?
कां बे ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे, के जिला के गौं को छे?
कखन ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे, के जिला के गौं को छे?

मेरे को पहाड़ी मत बोलो जी देहरादूण वाला हूं, देहरादूण वाला हूं
पहाड़ी – पहाड़ी मत बोलो जी देहरादूण वाला हूं, देहरादून वाला हूं

Thankyou…

Leave a Comment