Neeraj Chopra Gold

Rate this post

Neeraj Chopra Gold

 

आधी रात को जब भारत के अधिकांस लोग सो रहे थे वो गहरी नींद में थे , तब भारत के गोल्डन बॉय नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर इतिहाश रचा दिया, लगता नीरज और गोल्ड जो है एक दुसरे के पर्याय  बन चुके है क्युकी नीरज जहा जाते है वहा ऐसा लगत है गोल्ड पे निशाना लगाकर उसे ले आते है और भारत वासियों के लिए इस गोल्डन बॉय ने आधी रात को एक ऐसी खुसखबरी दी है जिसे जब सुबह अधिकांस लोग उठंगे और देखिंगे तो उनक चेहरे एक मुस्कराहट आएगी और कहिंगे चकदे इंडिया कमाल कर दिया, मतलब ये लड़का कमाल है

Neeraj Chopra Gold
 

वैसे ये जो वर्ल्ड चम्पियाँशिप में गोल्ड जीता है कमाल इसलिए भी है क्युकी पिछले के चालीस साल के इतिहास में भारत ने  कभी भी यहाँ पर गोल्ड नहीं जीता था, और नीरज चोपडा वक्ती है जिन्होंने ओलंपिक में जीताया था और अब यहाँ पैर भी हमको गोल्ड जीताया है

 

वैसे तो पाकिस्तान और भारत एक दुसरे के सामने खड़े नहीं होते है, अक्षर एक दुसरे से लड़ते झागते नजर आते है तारीफ जब हम नीरज चोपड़ा की कर रहे है, तो पाकिस्तान के नदीम की भी करनी चाहिए क्युकी नदीम कह रहे थे की वो अपने देश के लोगो के चहरे एक मुस्कराहट दे चाहते है और वो खुस है की वो दे रहे है लिमिटेड रेसोचेस में वो कम फैस्ल्तिज में उन्होंने अ[ने आ को मजबूत किया और सिल्वर ले कर आये, भारत का नीरज गोल्ड और पाकिस्तान का नदीम सिल्वर कमाल की ये जोड़ी है, बार बार हम कह रहे है नीरज चोपडा इतिहास रचने में मास्टर है

 
Neeraj Chopra Gold

 

ओलम्पिक के 120 साल इतिहाश में पहली बार गोल्ड जीतने वाले पहले व्यक्ति वो हमारे नीरज चोपड़ा और अब वर्ल्ड चेम्पियनशिप में भी इतिहास रच दी, हम आपको बता दे की Javelin Throw में नीरज चोपड़ा ने जब भाला फैका तो 88.7 मीटर जो सबसे दूर था, हर बार की तरह फैका और पीछे मुड़े और मुस्कराहट दी और सोचा कर ली दुनिया मुट्ठी में ये चेम्पियनशिप 1993 से लगातार हो रही थी लेकिन हम वहा अभी गोल्ड नहीं जीत पाए थे लेकिन इस बार हमने करके दिखा दिया, और थोडा सा पीछे हमारे पाकिस्तान के नदीम थे उन्होंने 87.82 मीटर भला फैका और सिल्वर मैडल अपने नाम कर लिया, अब हिस्दुस्तान भी खुस है, और पाकिस्तान भी खुस है

 
ऐसे बहुत सरे कम मौके है जहा पर दोनों जहा पर दोनों देश एक साथ खुस आते है अगर दोनों देश एक होतो तो हमारे पाश 2 2 मैडल होते पहला मैडल हमारा गोल्ड होता, और दूसरा मैडल सिल्वर होता, लेकिन कोई बात नहीं अलग अलग भी खड़े रहे तो क्या हुआ  एक साथ तो खड़े हुए, ये उम्मीद तो दिखाई की हम भी साथ खड़े तो हैहर जगह लड़ाई झगडे करने की जरुरत नहीं है हम एक दुसरे के लिए खुस हो सकते है 
 

हम आपको बता दे की वल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारत के ये तीसरा गोल्ड  है, तीन में से दो तो नीरज ने ली है पिछले सीजन में उन्होंने सिल्वर जीता था, जबकि 2003 में लगभग बेश साल पहले अंजू बॉबी जॉर्ज ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था। इसके अलावा कहगी हमारा कोई मैडल नहीं रहा

  

नीरज चोपड़ा जहा भी जाते है एक मैडल जीताते है और बड़ी बात to ये है की नीरज की उम्र बहुत कम है उनकी उम्र सिफ 25 है  और अगर आप इनकी अचिप्मेंट की बात करिंगे तो अचिप्मेंट तो भर भर के है , टोकियो ओलंपिक 2020 से नीरज गोल्ड मैडल लाये थे, पहली बार भारत में टोकियो ओलंपिक में गोल्ड जीता था, एसियन गेम्स 2018 में नीरज चोपड़ा गोल्ड लाये थे, वल्ड थलेटिक्स चैंपियनशिप पिछले साल 2022 नीरज सिल्वर लाये थे तब भी ये रिकॉर्ड बना था तब भारत का ये सिर्फ दूसरा मैडल था, और तब भी हम भारतीय खुस थे अपने पे फक्र था, उसके बाद 2018 में कॉमनवैल्थ हुआ था उसमे भी गोल्ड लाये थे, 2022 में Diamond league खलने गए थे वहा से भी गोल्ड लाये   

 

नीरज चोपड़ा को अब तक अर्जुन अवार्ड, पदमश्री अवार्ड और मेजर ध्यान चाँद अवार्ड तीनो मिल चुके है, और भी बहुत सरे सम्मान के वो हक़दार है मुझे लगता है ऐनी वाले समय में उन्हें वो अवार्ड भी मिलिंगे

 

मिलते है नए पुसर में तब तक के लिए आप अपना बहुत बहुत ख्याल रखना 

 

धन्यवाद

कृष्णव कोठारी

    

Leave a Comment