रिम झिम ये सावन, Rim Jhim Ye Sawan Hindi Lyrics

Rate this post

Rim Jhim Ye Sawan Hindi Lyrics

गीत रिम झिम ये सावन
गायक जुबिन नौटियाल
गीतकार कुनाल वर्मा
संगीत अमी मिश्रा

 

रिम झिम ये सावन फिर बरसात ले आया है
मौसम मोहब्बतों का खुद चल के आया है।
सारे शहर में सिर्फ हमको भीगया है
रिम झिम ये सावन फिर बरसात ले आया है
ओ …ओ.. ओ.. ओ ..
आ.. आ.. आ.. आ ..
ओ …ओ.. ओ.. ओ ..
आ.. आ.. आ.. आ ..
 
पहली मोहब्बत है और पहली ये बारिश है
भर लो बहनो आसमान की नवाजिश है।
कितना खुश है देखो न ये आसमान
है खुशनसी मेरी सारे जमाने में।
जो हमसफर तूने मुझे बनाया है
रिम झिम ये सावन फिर बरसात ले आया है।
 
रहीं अब सारी जाके तुझसे मिल जाती हैं
हस्ते हस्ते आँखों सेबूंदे गिर जाती हैं।
तू जो आया बदली मौसम की हवा
जितनी बेचैनी में था पहले ये सफर मेरा।
इतना सुखों मैंने तुझमें अब पाया है
रिम झिम ये सावन फिर बरसात ले आया है।
 
 
रिम झिम ये सावन फिर बरसात ले आया है
मौसम मोहब्बतों का खुद चल के आया है।
सारे शहर में सिर्फ हमको भीगाया है
रिम झिम ये सावन फिर बरसात ले आया है।
 
ओ …ओ.. ओ.. ओ …..
आ.. आ.. आ.. आ ..
ओ …ओ.. ओ.. ओ …..
आ.. आ.. आ.. आ ….
आ.. आ.. आ.. आ …
आ.. आ.. आ.. आ ..
 
Thankyou 🙏🙏🙏

Leave a Comment