Sab Kuchh Yahin Rah Jana Hai, Motivational Story

Rate this post

सब कुछ यहीं रह जाना है। –Motivational Stories

एक राज्य में एक बार एक सन्यासी आया और सीधा राजा के महल में चला गया। उस सन्यासी की वेश भूषा को देखकर राजा के किसी भी सिपाही ने उसे अंदर जाने से नही रोका। वो सन्यासी सीधा राजा के दरबार में चला गया।
 
सन्यासी को अपने सामने खड़ा देख, राजा ने उनसे पूछा, “आप कौन हैं और क्या चाहते हैं?
 
सन्यासी बोला, “मैं एक आध्यात्मिक गुरु हूं और प्रवचन देने के लिए दूसरे राज्य जा रहा था लेकिन अब दिन ढलने को आया है तो मैं आज रात आपके महल में ही रुकूंगा। रात बिताने के लिए बस में थोड़ी जगह चाहता हूं।”

 

Best Inspirational Stories

सन्यासी की बात सुनकर राजा बोला, “ये एक राजा का महल है कोई विश्राम स्थल नही, जो आप यहां रात में रुकना चाहते हैं। आप बाहर जाइए, वहां रहने की आपको कोई ना कोई जगह मिल जाएगी।”

सन्यासी ने राजा से फिर प्रश्न किया, “महाराज क्या मैं जान सकता हूं की आपसे पहले ये महल किसका था?”
 
राजा बोला, “मेरे पिता का था क्योंकि मुझसे पहले वही राजा था।”
 
सन्यासी ने फिर प्रश्न किया, “अच्छा, तो अब आपके पिताजी कहा हैं?”
 
राजा बोला, “अब वो इस दुनिया मैं नहीं रहे, उन्हीं के बाद तो मैं राजा बना।”
 
अच्छा, “आपके पिता से पहले ये महल किसका था?” सन्यासी ने फिर से प्रश्न पूछा।
 
राजा को अब गुस्सा आने लगा लेकिन फिर भी उसने शांत होकर जवाब दिया, “मेरे पिता से पहले ये महल मेरे दादाजी का था। और अब वो भी इस दुनिया में नहीं हैं।”
 
अब सन्यासी बोला, “ये जगह जो ना कल तुम्हारी थी और ना ही तुम्हारे जाने के बाद ये किसी और की होगी। इस संसार में लोग कुछ ही समय रह पाते हैं और फिर चले जाते हैं। जहां हम अपना समय बिताते हैं वही हमारा विश्राम स्थल है। ना तुम इसे अपने साथ लेकर जा पाओगे ना ही कोई कोई और। बताओ ये महल एक विश्राम स्थल नही है तो और क्या है?”
 
राजा उनकी बात समझ गया और हाथ जोड़कर माफी मांगने लगा। उसने सन्यासी को रुकने को जगह दे दी।
 

सीख जो हमे इस शॉर्ट मोटिवेशनल स्टोरी से मिलती है 

दोस्तों ये बात तो हम सभी जानते हैं की इस संसार से हम कुछ भी लेकर नही जा सकते। खाली हाथ आए थे और खाली हाथ ही जाना है। जब तक इस संसार आप हैं तो ‘मैं या मेरा’ इस चक्कर में ना पड़ें। जिंदगी में धन, लोभ, लालच के पीछे ना भागें। भागना है तो खुशियों के पीछे भागें। जिंदगी का मजा बहुत पैसों में या फिर बड़ी गाड़ी में नही है, जिंदगी का मजा है खुश रहने में।
 
खुश रहो क्योंकि दूसरे के पास चाहे बहुत पैसा है लेकिन इस दुनिया से वो जाएगा खाली हाथ ही और उसके धन का भोग कोई और करेगा। और अगर पैसा होकर भी आपक जीवन दुखों से भरा है तो आपकी जिंदगी अपने आप में ही बेकार है। याद रखना और इस पर गहराई से सोचना..“आलीशान जिंदगी से बेहतर है, एक खुशहाल जिंदगी।”
 
Thankyou…🙏🙏🙏

Leave a Comment