सटकै लिगो दिल माधुली, Satke Lige Dil Madhuli Hindi Lyrics

5/5 - (1 vote)

Satke Lige Dil Madhuli Hindi Lyrics

गीत सटकै लिगो दिल माधुली-2023
भाषा गडवाली
गायक रोहित चौहान, दीपा नागरकोटी
गीतकार दीपा नागरकोटी
संगीतकार राकेश भट्ट और पवन गुसाईं

 

Satke Lige Dil Madhuli Hindi Lyrics

सटकै लिगो दिल साथीया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा
सटकै लिगो दिल साथीया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा

हां देखी मैल त्वतें माधुली धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा
हां देखी मैल त्वतें माधुली धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा

सटकै लिगो दिल साथीया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा

हो…पूसुणी या तैल घाम गरमी की छाया
अती पड़ी घनघोर त्येमा मेरी माया
पूसुणी या तैल घाम गरमी की छाया
अती पड़ी घनघोर त्येमा मेरी माया
त्येमा मेरी…… त्येमा मेरी माया साथिया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा

देखी मैल त्वतें माधुली धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा

हो आदी रात नींदनीं टूटी मिथें आयो तेरुख्याल
मैल सोचयो को होलो जैल बणायो माया जाल
आदी रात नींदनीं टूटी मिथें आयो तेरुख्याल
 मैल सोचयो को होलो, जैल बणायो माया जाल
हां जैल बणायो……. अरे जैल बणायो माया जाल धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा

सटकै लिगो दिल साथीया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा

ओ सरर लुछी मन मेरो ऐगो त्येरी ओर
मन भितर तु छै बसी हिया में मची ग्ये सोर
सरर लुछी मन मेरो ऐगो त्येरी ओर
मन भितर तु छै बसी हिया में मची ग्ये सोर
हिया में……… हिया में मची ग्ये सोर साथीया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा

देखी मैल त्वतें माधुली धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा

तेरी मेरी भैट ह्वे छौ जुड़ी ग्यै छौ माया की डोर
दयेखी बै त्वे छ्प छपी लागी हाय मेरी चंदा चकोर
तेरी मेरी भैट ह्वे छौ जुड़ी ग्यै छौ माया की डो
दयेखी बै त्वे छ्प छपी लागी हाय मेरी चंदा चकोर
हाय मेरी…… हाय मेरी चंदा चकोर धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा

 

सटकै लिगो दिल साथीया पैली मुलाकात मा
निंसाणी दये रुमाल त्वे, रुमाल मा लिख्यों मेरो ना मा
देखी मैल त्वतें माधुली धुकी धुकी मन मा
त्येरी जसी रूपसी नी देखी गढ़कुमांऊ हिल मा

Thankyou….

Leave a Comment